राजनीति

तीसरा चरण एनडीए का हो सकता है

बिहार से बाहर दूसरा चरण भाजपा के लिए ठीक-ठाक था। अब केरल-असम-बिहार-यूपी में मशगूल राहुल-प्रियंका की गुजरात-राजस्थान-छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश की अनदेखी से काँग्रेस 44 से ऊपर, लेकिन 100 के भीतर निपटती मिलेगी और  हरियाणा के गुरूग्राम, रिवाड़ी से राजस्थान भाया अलवर, मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तर महाऱाष्ट्र, मुंबई, कोंकण, 19 सीटों वाली तटीय कनार्टक के इलाके में भाजपा […]

राजनीति

लालू: भाजपा के लिए मजबूत चुनौती

बिहार की राजनीति में लालू प्रसाद की बड़ी ताकत और पासा पलटने की क्षमता का एनडीए को एहसास है इसलिए उन्हें  रांची अस्पताल में दुनियाँ के सबसे खूंखार आतंकवादी के समान सख्त पहरेदारी और निगरानी में रखा गया है। संचार घोटाले के आरोपी बरी हो रहे हैं, कोयला घोटाले के मुकदमे खारिज हो रहे हैं, […]

राजनीति

एनडीए: भूमिहार-ब्राह्मण को टारगेट कर ओबीसी-दलित में उबाल की नीति

सवर्णों को दुत्कार, दलित-ओबीसी से प्यार की राजनीति से लालू के जनाधार में  एनडीए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह से नीतीश-सूमो की मंत्रणा के बाद सोची-समझी रणनीति के तहत ओबीसी मतों की गोलबन्दी के लिए बिहार-झारखण्ड में दुत्कारे गए भूमिहार-ब्राह्मण। पहले दलित अध्यादेश के जरिये भूमिहारों और ब्राह्मणों को टारगेट कर दलित गोलबन्दी कराने […]

राजनीति

तो क्या नीतीश-सूमो की मंत्रणा से कटा दिग्गजों का टिकट?

क्या नीतीश-सूमो की जोड़ी ने भूमिहारों और अपने विरोधी गिरिराज, शाहनबाज, सम्राट, अरुण के टिकट काटे? क्या दिल्ली के दबाव में उनका रूढ़ी, आरके सिंह एवं सुशील सिंह के खिलाफ अभियान विफल हुआ? – सत्ता के गलियारे में चर्चा है कि सुशील-नीतीश मंत्रणा से भाजपा के कोर वोटर भूमिहारों की अनदेखी हुई और इसकी कीमत […]

राजनीति

भारत के राजनीतिक दलों की धार्मिक ध्रुवीकरण की नीति से मिली आतंकवाद को उर्वर जमीन

कड़वा, लेकिन सच: बी बी रंजन पाक चाहता है कि भारत में भाजपा की सरकार बने। सत्तालोलुप भारतीय दलों के धार्मिक ध्रुवीकरण से आतंकवाद को मिली उर्वर जमीन। पाक ऐन चुनावी मौके पर आक्रमण से हिन्दू-मुस्लिम नफरत की मजबूत दीवार खींचना चाहता है ताकि मुस्लिम ध्रुवीकरण की हालत में आईएसआईएस को भारत में मजबूत जमीन […]

राजनीति

2019: हर हाल में त्रिशंकु परिणाम

अनिश्चित माहौल और बाकी बचे 70 दिनों की पुरजोर कोशिश से कांग्रेस सवा सौ सीटों तक पहुँचने को बेताब है, भाजपा दो सौ का आँकड़ा छूना चाहती है। प्रांतीय पार्टियों का महागठबंधन भी वैकल्पिक ठनठन गोपाल है। सारी पार्टियाँ के सारे राजनीतिक सूत्र बेकार हो चुके हैं। हर हाल में स्पष्ट बहुमत से सभी दूर […]

राजनीति

तो हारना किसे कहते हैं

दिल्ली में राष्ट्रीय परिषद की बैठक में कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों औऱ बड़े नेताओं को सीधा संदेश: नरेंद्र मोदी भाजपा की जमा पूँजी हैं, चुनाव इनके नाम पर पुरानी शैली में लड़ना है। कांग्रेस भले जीती है पर भाजपा हारी नहीं है- राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के इस बयान पर पार्टी के साधारण कार्यकर्ताओं के साथ ही […]

राजनीति

गठबंधन: भाजपा हराओ के आगे क्या?

माना कि सवर्ण आरक्षण मोदी-शाह की घबराहट का प्रतिफल है, लेकिन गठबंधन ‘नरेन्द्र मोदी हराओ’ के आगे भारत के नवनिर्माण पर अपनी सोच बताने में विफल है। तो फिर सिर्फ भाजपा को हराना कोई मुद्दा नहीं है। लोगों का एनडीए की नीयत पर शक बढ़ा है। नमो के ऊपर जमा विश्वास डगमगाया है। सरकार लगातार वादों […]

राजनीति

प्रधानमंत्री के संबोधन के साथ भाजपा का राष्ट्रीय अधिवेशन खत्म

अटलजी के बिना रामलीला मैदान में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की पहली बैठक का समापन नरेंद्र मोदी के भाषण के साथ हो गया है। अधिवेशन में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद वल्लभ भाई पटेल और 2000 के चुनावों के बाद अगर अटलजी प्रधानमंत्री बने रहते तो आज भारत कहीं और होता। […]

राजनीति

पाटलिपुत्र में सवर्ण प्रत्याशी की चाहत

सवर्ण बहुल पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र में सवर्ण मतदाता एक सवर्ण प्रत्याशी के पक्ष में गोलबंद होकर अपना वजूद दर्शा सकते हैं। लगभग चार लाख सवर्ण मतदाताओं वाले पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र से एक सवर्ण प्रत्याशी की उम्मीदवारी तो बनती है। एक बड़े सवर्ण खेमा का मानना है कि ऐसा न होना उनके अधिकार का हनन है। […]