Uncategorized

अब गुजरात में जादू और प्रबंधन का मतलब संसाधन और पैसा

गरीब प्रत्याशियों के हाथों से बाहर हो गयी भारतीय राजनीति     आजाद भारत के इतिहास पहली बार पचास हजार मतदान केंद्रों में घर-घर पहुंचने का जो रोडमैप बना है और यह लाव-लश्कर के साथ यात्रा की संभावित खर्च से रोंगटे खड़ा कर देता है। प्रमोद महाजन के फ़ॉर्मूले पर लड़ा जानेवाले गुजरात चुनाव में कार्यकर्ताओं […]

Uncategorized

पालीगंज: क्वेक्स के हाथों हुई थी महिला की मौत,

पालीगंज के एम कुमार और दुल्हिनबाजार केें मगध नर्सिंग होम में झोला छाप चिकित्सक (क्वेक्स) के हाथों हुई थी महिला की मौत, स्थानीय प्रशासन की भूमिका संदेहास्पद। लेकिन भोज-भात में शरीक होनेवाले स्थानीय जनसेवक तो बोल सकते थे। शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे बुनियादी जनसमस्याओं पर उनकी चिर चुप्पी क्यों है: बी. बी. रंजन पालीगंज के […]

Uncategorized

उत्कर्ष की शादी में व्यवधान पैदा करेंगे तेजप्रताप और उधर गुजरात में हताश होती कांग्रेस: बी. बी. रंजन

अस्सी के दशक में कांग्रेस के खाम समीकरण यानी क्षत्रिय, हरिजन, आदिवासी और मुस्लिम समीकरण में आदिवासी पूरी तरह से कांग्रेस के साथ थे। कांग्रेस कोआदिवासी नेता छोटू बसवा के लिए पांसीटें छोड़ने की जरूरत नहीं थी। गुजरात में आजादी के बाद आदिवासी कांग्रेस के साथ हैं। दलित कांग्रेस के साथ थी और जिग्नेश जिग्नेश मेवानी […]