सामाजिक

रियल चौकीदार ड्यूटी पर हैं

देश के रियल चौकीदार ड्यूटी पर हैं, फर्जी चौकीदार दुबक गए हैं। कॉरोना को लेकर बेतिया मेडिकल कॉलेज के एमबीबीएस के सभी छात्रों की सारी छुट्टियां रद्द कर दी गईं हैं, पीएमसीएच और एनएमसीएच के पीजी के छात्रों को जंक्शन सहित तमाम जगहों पर लगा दिया गया है। लिहाजा ड्यूटी पर तैनात एनएमसीएच के तिरासी छात्रों को क्वारांटिन रहने की सलाह दी गई है, एम्स की एक कर्मी संक्रमित हो गई है, क्योंकि पीपी मैटेरियल नहीं है। बिहार में 15 वर्षों से एनडीए सरकार है। फर्जी चौकीदार कहीं दुबक गए हैं।

देश को चौकीदारों की जरूरत आ गई है। ताली, थाली और घंटियां भी बजाएं, लेकिन बयानबाजी से दीगर अस्पतालों में पूरी व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। सांसद-विधायक अपने क्षेत्र में आनेवाले तमाम पीएचसी, अनुमंडलीय एवं जिला अस्पतालों में पीपी मैटेरियल, आइसोलेशन वार्ड, संबंधित दवाओं एवं आवश्यक बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था कराते नजर नहीं आ रहे। प्रतिनिधि, एनजीओ, राजनीतिज्ञों, बड़े व्यापारिक घरानों, दलों के कार्यकर्ताओं और प्रतिनिधियों के साथ चलती टोलियों की सक्रियता का वक्त आ गया है। हालात को हर हाल में काबू करना है।

कम्युनिटी ट्रांसफर का काम एक हद तक पूरा हो चुका है, स्टेज थ्री दस्तक देने को तैयार है। स्टेज थ्री की दस्तक के बाद प्रबंधन बेकार जाएगा। प्रत्येक घर में सेनेटाइजर एवम् मास्क पहुंचाने का काम पूरा हो जाना चाहिए। कई लोग अपने भवन मुहैया कराने को तैयार हैं। स्कूलों और कॉलेजों को भी आइसोलेशन वार्ड में परिवर्तित करने की जरूरत है। सभी नर्सिंग होम्स में मुकम्मल व्यवस्था सुनिश्चित करानी होगी। जांच कीट उपलब्ध कराने होंगे। नए घोषित अस्पतालों में सारी सुविधाएं सुनिश्चित की जानी चाहिए।

जमीनी राजनीति की बात करनेवाले लोगों को इस समय आगे आना चाहिए। सुख और दुःख के साथी की भूमिका के दावेदारों को अपनी सही जिम्मेदारी निभाने का वक़्त आ गया है। उनके साथ चलती टोलियों की सक्रियता जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *