बिहार-यूपी में भाजपा की नई राह, यादव मतों को पटाने की चाह: बी. बी. रंजन.

NEWS 0 Comment

कभी भाजपा और आरएसएस की प्रयोगशाला गुजरात था, अब हिंदुत्व की प्रयोगशाला उत्तर प्रदेश नंबर है: बी. बी. रंजन.


Image result for modi-amit


आगामी लोकसभा चुनाव में एक बार फिर यादव मतों को यूपी और बिहार में पटाने की जुगत में भाजपा. मधुबनी के सांसद हुकुमदेव नारायण यादव का नाम भी उपराष्ट्रपति बनानेवालों की सूची में शामिल है: बी. बी. रंजन.


Image result for laloo-akhilesh mayavati


पटना के सगुना मोड़ पर एक मॉल बन रहा है, जिसकी मिट्टी चिड़ियाघर को 90 लाख रुपए में बेची गई है। यह मॉल लालू प्रसाद का है और मिट्टी खरीद का आदेश देने वाला वन व पर्यावरण मंत्रालय तेज प्रताप यादव का है। सुगना मोड़ की कथित रूप से सात सौ करोड़ रुपए की जमीन तक पहुंचा। फिर दिल्ली में पांच करोड़ रुपए के एक घर का मामला सामने आया। एक बीयर फैक्टरी की मंजूरी देने के लिए किसी कंपनी से जमीन ली गई। इन दोनों मामलों में शामिल कंपनियां के निदेशक लालू के परिवार के सदस्य हैं। सुशील मोदी का आरोप है कि तेजस्वी और तेज प्रताप ने अपने चुनावी हलफनामे में इन संपत्तियों का जिक्र नहीं किया है। पटना से लेकर दिल्ली तक लालू प्रसाद के परिवार के सदस्यों खास कर उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव और राज्यसभा सांसद मीसा भारती के पास कितनी संपत्ति है। इसे लेकर अदालत में जनहित याचिका भी दायर हो गई है।Image result for laloo-akhilesh mayavati
आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा की नजर एक बार फिर यादव मतों पर है। नित्यानंद राय को प्रदेश अध्यक्ष भी बनाया है और मधुबनी के सांसद हुकुमदेव नारायण यादव का नाम भी उपराष्ट्रपति बनानेवालों की सूची में शामिल है।
यूपी की प्रयोगशाला में फिलहाल हिन्दूत्व एवं सोशल इंजीनियरिंग पर प्रयोग जारी है और लक्ष्य सपा और बसपा को निपटाने का है। राजनीतिक और कानूनी हथकंडों का सहारा लिया जा रहा है। भाजपा की ओर से बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की विरासत हथियाने का प्रयास भी जारी है। अंबेडकर जयंती अर्थात् 14 अप्रैल तक पूरे देश में कई कार्यक्रम हुए, भीम एप लांच किया गया, मायावती की पार्टी के कई दलित नेताओं को तोडा जा रहा है।
सपा के अंदर फूट की खबर है। मुलायम सिंह के दूसरे बेटे प्रतीक यादव और उनकी पत्नी अपर्णा यादव की योगी आदित्यनाथ से दो मुलाकातें हो चुकीं है, शिवपाल यादव भी मिल चुके हैं और अमर सिंह लगातार भाजपा नेताओं के संपर्क में हैं। शिवपाल की कमान में एक दूसरी सपा की प्रबल संभावना है, सपा के 47 विधायकों में से कुछ विधायकों के टूटने की सम्भावना है। लोकसभा चुनाव में यादव मतों को हासिल करने के लिए उत्तरप्रदेश में भाजपा को एक मजबूत यादव चेहरे की तलाश है।
शिवपाल यादव ने रामगोपाल यादव के खिलाफ शिवपाल यादव ने कई संगीन आरोप लगाये हैं। मुलायम परिवार के लगभग सभी सदस्य आय से अधिक संपत्ति के मामले में आरोपों से घिरे हैं। बसपा प्रमुख मायावती के खिलाफ कई मामले लंबित हैं। उनके सगे भाई आनंद कुमार के ठिकानों से आयकर द्वारा जब्त राशि पर जांच जारी है। मायावती के राज में हुए एनआरएचएम घोटाले की फाइल खुलने की संभावना है। इसलिए कानूनी जांच का अस्त्र भी सरकार के हाथ में है।

Leave a comment

Search

फ्यूरियस इण्डिया

Back to Top