Uncategorized

तेजप्रताप की लालू शैली अर्थात 90′ के दशक में बिहार

संImage result for तेजप्रताप और तेजस्वीभवतः नब्बे के दशक में बिहार को वापस लाने की जिम्मेदारी लालू प्रसाद ने तेजप्रताप को सौपी है। लालू प्रसाद अपने विरोरोधियों को अपने भाषण से डरा-धमकाकर  अपनी राजनीति मजबूत करते थे। अब तेज प्रताप यादव को विरासत मिली है और लालू प्रसाद उनका समर्थन करते हैं। तेज प्रताप बिना किसी खास संदर्भ के सूमो और नमो को हड़काते है और लालू प्रसाद उनके हौसले की आफ़जाई करते हैं लालू इसे तेज प्रताप की फुफकार कहते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खाल उधड़वा देने की तेजप्राताप की फुफकार को लालू ने पिता के अपमान पर आक्रोशित एक नवजवान का स्वाभाविक बयान करार दिया।

तेजप्राताप के ऐसे बयानों से अपने समर्थकों के बीच लालू की तरह उनकी लोकप्रियता बढ़ेगी और यह तेजस्वी जैसे उभरते राजनीतिज्ञों के लिए एक खतरा बनेगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *