राजनीती

गुजरात: ऐने मौके पर रूपाणी को किनारा कर पाटीदार नितिन घोषित हो सकते हैं गुजरात में मुख्यमंत्री का चेहरा

Image result for नितिन पटेल गुजरात

प्रचार बंद होने से पहले पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के खिलाफ मोर्चा खोलनेवाले पाटीदार उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार घोषित किया जा सकता है। 29 नवंबर को प्रधानमंत्री की रैली से थोड़ी ही दूर पर हार्दिक पटेल की रैली में जुटी भारी भीड़ ने भाजपा के आत्मविश्वास को हिलाकर रख दिया है। बहरहाल आधिकारिक रूप से रूपाणी भाजपा के सीएम उम्मीदवार हैं, लेकिन हिमाचल प्रदेश में मिली फीडबैक के आधार पर प्रेम कुमार धूमल को मुख्यमंत्री चेहरा घोषित किया गया था और नितिन पटेल अंतिम क्षण में गुजरात में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार घोषित किए जा सकते हैं। आनंदी बेन पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटाने के बाद नितिन पटेल मुख्यमंत्री पद के सबसे मजबूत दावेदार थे, लेकिन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने करीबी विजय रूपाणी को सीएम बनाया। अब खुद रूपाणी अपनी सीट पर मुश्किल लड़ाई में फंसे हैं। पिछले दिनों एक वायरल ऑडियो में रूपाणी एक जैन उम्मीदवारों को अपनी और पार्टी की स्थिति खराब होने का हवाला देकर उसे नामांकन वापस लेने की नसीहत दे रहे थे।

पटेल वोट की जरूरत हिंदू ध्रुवीकरण के लिए जरूरी है। अन्य पिछड़ी जातियों और दलितों में अपने हित की चिंता जग गयी है और उनके अन्दर हिन्दुत्व के प्रति पुराना रूझान नहीं देखा जा रहा है।

दूसरी ओर सत्ता की दहलीज के करीब आती कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल बनानेवाले हैं और राहुल अर्थवान, विनम्र और बेख़ौफ़ हैं। उनकी मंशा और उनका मिशन संसद में 272  से आगे जाने  के हैं, लेकिन नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की सियासत की बेजोड़इति से निपटाना कोई खेल नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *